Kabir ke dohe In Hindi – Top 200+ कबीर के दोहे With Meaning

   Kabir ke dohe  Kabir Das ji Ke Dohe Kabir Das ji Ke Dohe With Meaning 1. कबीर सोई पीर है जो जाने पर पीर । जो पर पीर न जानई  सो काफिर बेपीर । भावार्थ: कबीर  कहते हैं कि सच्चा पीर – संत वही है जो दूसरे की पीड़ा को जानता है जो दूसरे के … Read more